Computer Gk कंप्यूटर की पीढ़िया

कंप्यूटर की पीढ़िया (Computer’s Generation)

नई तकनीक के आधार पर कंप्यूटर की 5 पीढियां है-

1 प्रथम पीढ़ी (First Generation), (1942-1956)-

★ पहली पीढ़ी के कंप्यूटर में मुख्य इलेक्ट्रॉनिक घटक के रूप में “वेक्यूम ट्यूबो” एवं “डेटा भंडारण” के लिए ‘चुंबकीय ड्रम’ का इस्तेमाल किया गया।

★ उनका आकार काफी बड़ा था यहां तक कि उन्हें रखने के लिए एक पूर्ण कक्ष की आवश्यकता होती थी, वह बहुत महंगे थे गर्मी का उत्सर्जन अधिक था जिसकी वजह से उन्हें ठंडा करना बहुत आवश्यक होता था।

★ पहली पीढ़ी के कंप्यूटर को ऑपरेट करने के लिए “मशीन भाषा” का इस्तेमाल इसकी प्रोग्रामिंग भाषा के रूप में किया जाता था।

★ पहली पीढ़ी के कंप्यूटर को इनपुट ‘पंच कार्ड’ और ‘कागज टैब’ द्वारा दिया जाता था।

★ पहली पीढ़ी के कंप्यूटर एक समय में एक ही समस्या को हल करने में सक्षम थे।

उदाहरण- ENIAC, EDVAC, TBM 701 आदि।

2 दूसरी पीढ़ी (Second Generation), (1956-1965)-

★ दूसरी पीढ़ी के कंप्यूटर में इलेक्ट्रॉनिक घटक के रूप में ‘ट्रांजिस्टर’ का इस्तेमाल किया गया था।

★ इस पीढ़ी में चुंबकीय कोर, प्राइमरी मेमोरी और चुंबकीय टेप एवं चुंबकीय डिस्क, सेकेंडरी भंडारण (स्टोरेज) उपकरणों के रूप में इस्तेमाल किया गया था।

★ कोबोल और फोरट्रान के रूप में उच्च स्तरीय प्रोग्रामिंग भाषा इस पीढ़ी में शुरू की गई थी।

उदाहरण- Honeywell 400, CDC 1604, IBM 7030 आदि।

3 तीसरी पीढ़ी (Third Generation), (1965-1975)-

★ तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटर में ट्रांजिस्टर के स्थान पर इंटीग्रेटेड सर्किट (आई.सी.) का इस्तेमाल किया गया था।

★ एक एकल आई.सी. ट्रांजिस्टर, प्रतिरोधों और कैपेसिटर की एक बड़ी संख्या को एक साथ संगठित कर के रख सकता है जिसके कारण कंप्यूटर के आकार को ओर अधिक छोटा बनाया जा सकता था।

★ इस पीढ़ी के कंप्यूटरों द्वारा इनपुट आउटपुट के लिए कीबोर्ड और मॉनिटर का इस्तेमाल किया गया था।

★ इस पीढ़ी में समय साझा (टाइम शेयरिंग) और बहू प्रोग्रामिंग ऑपरेटिंग सिस्टम (मल्टी प्रोग्रामिंग ऑपरेटिंग सिस्टम) की अवधारणा को पेश किया गया था।

★ कई नई उच्च स्तरीय प्रोग्रामिंग भाषाओं की शुरुआत इस पीढ़ी में हुई जैसे फोरट्रान 4, पास्कल, बेसिक आदि।

उदाहरण-IBM 360/370, CDC 1604,PDP 8/11 आदि।

चतुर्थ पीढ़ी (Fourth Generation), (1975-1988)-

★ इस पीढ़ी में माइक्रोप्रोसेसर की शुरुआत हुई जिनमे हजारों आई.सी. एक एकल चिप एक सिलिकॉन चिप पर निर्मित की जा सकती थी।

★ इस पीढ़ी के कंप्यूटर बहुत बड़े पैमाने पर एकीकृत सर्किट (VLSI-वेरी लार्ज स्केल इंटीग्रेशन ) तकनीक का इस्तेमाल किया करते थे।

★ वर्ष 1971 में इंटेल 4004 चिप विकसित किया गया था।

★ इसमें एक एकल चिप पर एक कंप्यूटर के सभी घटक (कंपोनेंट) स्थित होते थे।
इस प्रयोग की वजह से छोटे आकार के कंप्यूटर ने जन्म लिया जिसे डेस्कटॉप कंप्यूटर या पर्सनल कंप्यूटर का नाम दिया गया।

★ इस पीढ़ी में, समय के बंटवारे (टाइम शेयरिंग) की अवधारणा, वास्तविक समय प्रसंस्करण (रियल टाइम प्रोसेसिंग), डिस्ट्रिब्यूटेड ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल किया गया था।

★ इस पीढ़ी में नयी उच्च स्तरीय प्रोग्रामिंग भाषाओं जैसे C, C++, डेटाबेस को इस पीढ़ी में इस्तेमाल किया गया था।

उदाहरण- Apple 2, VAX 9000,CRAY 1/2 आदि।

5 पंचम पीढ़ी (Fifth Generation), (1988 से अब तक)-

★ पांचवीं पीढ़ी के रूप में, एक नई तकनीक उभर कर आई जिसे ULSI (अल्ट्रा लार्ज स्केल इंटीग्रेशन) कहा जाता है, जिसके अंतर्गत माइक्रोप्रोसेसर चिप 10 लाख तक इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों तक शामिल किया जा सकता था।

★ इस पीढ़ी में कृत्रिम बुद्धि (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस) की अवधारणा, वोइस रिकग्निशन, मोबाइल संसार, सेटेलाइट संसार, सिग्नल डाटा प्रोसेसिंग को आरंभ किया गया ।

★ उच्च स्तरीय प्रोग्रामिंग भाषाओं जैसे JAVA, VB और .NET की शुरुआत इस पीढ़ी में हुई।

उदाहरण- IBM, Pentium,Param आ

Author: admin

2 thoughts on “Computer Gk कंप्यूटर की पीढ़िया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *